Suraj Pe Mangal Bhari Movie Review- मनोज और दिलजीत की फिल्म पर कैसी रही मंगल की दशा

Suraj Pe Mangal Bhari Movie Review

Actor : मनोज बाजपेयी,दिलजीत दोसांझ,फातिमा सना शेख,सुप्रिया पिलगांवकर,नेहा पेंडसे

Director  : अभिषेक शर्मा 

Duration : 2 Hrs 20 Min

लगभग 9 महीने के बाद कोई मूवी सिनेमघर तक पहुँच पाई है इस कोशिश के लिए अभिषेक शर्मा की प्रशंसा करनी होगी कि यह जानते हुए भी कि दर्शक सिनेमा घर जाने से डर रहे हैं और बड़े बड़े बैनर कि फिल्मे भी OTT Platform पर रिलीज़ हो रही है तब उन्होंने हिम्मत दिखाई और अपनी फिल्म को थिएटर में रिलीज़ किया |

उनके इस कदम से सिनेमा जगत में आशा की किरण दिखाई दी है | अब बात करते है Suraj Pe Mangal Bhari Movie Review तो यह एक हल्की फुल्की कॉमेडी फिल्म है जिसमे मनोज बाजपेयी जैसे मंझे हुए कलाकार आपको एक साथ कई अवतार में नज़र आयेंगे |

Suraj Pe Mangal Bhari Movie Review ,अगर कहानी की बात करें तो यह आज से 25 साल पहले के बम्बई पर आधारित कहानी है जिसमे मनोज वाजपेयी एक वेडिंग डिटेक्टिव (Wedding Detective ) की भूमिका में है और दिलजीत एक ऐसे लड़के की भूमिका में है जो अपने लिए एक सुन्दर और संस्कारी दुल्हन ढून्ढ रहा है |

Suraj Pe Mangal Bhari Movie Review ,अगर कहानी की बात करें तो यह आज से 25 साल पहले के बम्बई पर आधारित कहानी है जिसमे मनोज वाजपेयी एक वेडिंग डिटेक्टिव (Wedding Detective) की भूमिका में है और दिलजीत एक ऐसे लड़के की भूमिका में है जो अपने लिए एक सुन्दर और संस्कारी दुल्हन ढून्ढ रहा है |

अब कहानी में twist तब आता है जब मनोज वाजपेयी दिलजीत की शादी तुडवा देते है | इसके बाद दिलजीत जिसका फिल्म में नाम सूरज है मंगल (मनोज वाजपेयी ) की बहन फातिमा शेख से ही प्यार कर बैठता है |फातिमा शेख और दिलजीत के बीच नोंक झोंक और फिर उनकी happy wedding के ताने बाने को कहानी के रूप में मजेदार तरीके से बुना गया है |


मनोज वाजपेयी हमेशा ही अपने बेहतरीन अभिनय के लिए जाने जाते है यहाँ भी मराठी मानुष की भूमिका में उन्होंने अच्छा काम किया है पर कहीं कहीं उनकी कॉमेडी टाइमिंग उन्हें धोखा दे जाती है या फिर उनके चेहरे पर भावों की कमी खलती है |

शादी के लिए बेक़रार युवा के किरदार में दिलजीत बेहतरीन लगे हैं उन्होंने अपने किरदार को दिल से जिया है | फातिमा बहुत खूबसूरत लगी है और उन्होंने अच्छा काम किया है |


Suraj Pe Mangal Bhari Movie को और अधिक मजेदार बनाया जा सकता था कॉमेडी की कमी कहीं कहीं खलती सी लगती है | 1995 का मुंबई दिखाने की कोशिश भी पूरी तरह सफल नहीं हो पाई है |

अभिषेक शर्मा इससे पहले तेरे बिन लादेन और परमाणु :पोखरण जैसी फिल्में निर्देशित कर चुके हैं इसलिए लोगों को उनसे उम्मीद कहीं ज्यादा थी , जिस पर यह फिल्म पूरी तरह से फिट नहीं हो पाती |


वैसे OTT पर परोसे जानी वाली फूहड़ कॉमेडी और द्विअर्थी संवादों से परे यह फिल्म एक सुकून का एहसास भी देती है | अगर आप अपनी फॅमिली के साथ social distancing के साथ सिनेमा घर में जाकर फिल्म देखना चाहते है तो यह आपके लिए बेहतरीन विकल्प है |

Suraj Pe Mangal Bhari Movie Review :- फिल्म देखने के बाद लोगो ने twitter पर positive और negative दोनों तरह के रिव्यु दे रहे हैं |

कई लोगो को फिल्म बहुत पसंद आई और कई को फिल्म में कुछ ख़ास नज़र नहीं आया | आमिर खान भी अपनी बेटी के साथ यह फिल्म देखने गये थे इस पर भी लोगों ने अलग अलग प्रतिक्रियाएं दी हैं |

Dolly Deval:

This website uses cookies.