देश

Release Perarivalan – क्या एक निर्दोष की 29 साल की कैद खत्म होगी ? क्या मिलेगा न्याय ?

0
Release Perarivalan – क्या एक निर्दोष की 29 साल की कैद खत्म होगी ? क्या मिलेगा न्याय ?

Release Perarivalan – पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या में दोषी पाए जाने के बाद Perarivalan पिछले 29 वर्षों से जेल में बंद सात लोगों में से एक है।मामले की जांच करने वाले त्यागराजन ने कुछ साल पहले आईपीएस को बताया था कि ‘पेरारिवलन का कबूलनामा पूरी तरह से दर्ज नहीं है।’ इसके बाद पेरारिवलन की रिहाई की मांग उठने लगी।

Bharat Headlines

पेरारिवलन की गिरफ्तारी से लेकर आज तक, उसकी माँ लगातार संघर्ष कर रही हैं । वह सरकार में मौजूद  लोगों के साथ मिलकर अपने बेटे की आज़ादी की मांग उठा रही हैं |

Boycott Bingo: Ranveer Singh को महंगा पड़ा SSR पर किया गया मज़ाक

इन परिस्थितियों में, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री Edappadi Palanisamy की अध्यक्षता में कैबिनेट ने Perarivalan  सहित सात  लोगों को रिहा करने का प्रस्ताव पारित किया और इसे तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल के पास भेज दिया गया है । फाइलें महीनों से राज्यपाल कार्यालय में हैं। लेकिन उन्होंने अभी तक अपने फैसले की घोषणा नहीं की है।

इसलिए Perarivalan के समर्थन में  हैशटैग Release Perarivalan ट्रेंड कर रहा है।

perarivalan100918 1 Bharat Headlines

लोगो ने Perarivalan को आज़ाद करने की मांग की है एक यूजर ने लिखा है की सभी अधिकारियों से जो की जाँच का हिस्सा थे को Perarivalan के कबूलनामे को लेकर आशंका है | लोगो की भावनाओं का सम्मान करते हुए Perarivalan को आज़ाद करना चाहिए|उन्होंने 30 साल से सूर्य की रोशनी नहीं देखी है|

एक यूजर ने tweet किया है

30 साल की जेल ऐसे शख्स के लिए जिसने कभी अपराध नहीं किया ।। अपने बेटे को वापस पाने के लिए एक माँ के संघर्ष के 30 साल । हमारी हाथ जोड़कर विनती है @CMOTamilNadu & राज्यपाल  से कि उन्हें न्याय दे  कृपया माँ और बेटे को अब से एक मुक्त जीवन जीने का अवसर दें ।

कौन है पेरारिवलन (Who is Perarivalan )

पेरारिवलन उर्फ अरिवू 19 साल का था जब उसे जून 1991 में गिरफ्तार किया गया था। उस पर लिट्टे के शख्स सिवरासन के लिए दो बैटरी सेल खरीदने का आरोप था, जो राजीव गाँधी की हत्या की  साजिश का मास्टरमाइंड था|

BoycottZomato क्यों ट्रेंड हो रहा है twitter पर ?

पेरारिवलन 23 साल तक मौत की सज़ा के साये में जीता रहा |फिर 18 फरवरी, 2014 को भारत के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश पी. सतशिवम और जस्टिस रंजन गोगोई और शिवा कीर्ति सिंह की सुप्रीम कोर्ट बेंच ने पेरारिवलन और दो अन्य दोषियों, मुरसान और संथान की मौत की सजा को उम्रकैद में बदल दिया।

Release Perarivalan – क्या एक निर्दोष की 29 साल की कैद खत्म होगी ? क्या मिलेगा न्याय ?

नवंबर 2013 में एक रिटायर्ड सीबीआई एसपी वी त्यागराजन ने माना की उन्होंने पेरारिवलन के ब्यान को बदल दिया था|

Tom and Jerry Movie Review टॉम एंड जेरी की कहानी को मिले लाइक से ज़्यादा डिसलाइक

इस प्रकार यह साबित होने पर भी की वो निर्दोष है उसे आज़ादी नहीं मिली इसी के चलते अब लोगो ने twitter पर Release Perarivalan को ट्रेंड कर न्याय की मांग की है |

माँ ने की थी दया मृत्यु की मांग –

एजी पेरारीवलन ने  लम्बी कानूनी लड़ाई और सरकार की उदासीनता से परेशान होकर कहा की हम अब हताश हो चुके हैं अब जीने की कोई इच्छा नहीं बची | उन्होंने सन 2018 में  केंद्र सरकार से मांग की थी की उन्हें और उनके बेटे को दया मृत्यु की इजाज़त दी जाए | 

Boycott Bingo: Ranveer Singh को महंगा पड़ा SSR पर किया गया मज़ाक

Previous article

What is Dark Web ? इन्टरनेट की काली दुनिया का रहस्य

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *