देश

आज से 5 Rafale बने Indian Airforce की नई ताकत

0
bharat headlines
rafale

चीन के साथ हुए तनाव के मध्य आज भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) की ताकत बढ़ने वाली है. कुछ दिनों पहले फ्रांस से भारत आए पांच राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Fighter Jets) आज आधिकारिक रूप से वायुसेना का हिस्सा बन जाएंगे. यानी ये सबसे बेहतरीन फाइटर जेट भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) में किसी भी पोस्ट पर नियुक्त होने के लिए रेडी हो जाएगा. यह Indian Airforce का टॉपगन होगा. राफेल लड़ाकू विमानों (Rafale Fighter Jets) से चीन और पाकिस्तान की हालत बहुत खराब है.

rafale fighter jet

आइए हम Rafale Fighter Jets की एक्सक्लूसिव तस्वीरो और खासियत पर एक नज़र डालते है.

राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Fighter Jets) का जो कॉम्बैट रेडियस हे वह 3700 किलोमीटर है वही साथ ही इस विमान में दो इंजन है जो भारतीय वायुसेना (Indian Airfroce) की ज़रूरत थी.

यह भी पढ़े: Rafale fighter jets : वायु सेना में शामिल राफेल लड़ाकू जेट, Rows गोल्डन एरो ’स्क्वाड्रन का हिस्सा होंगे|

राफेल (Rafale ) में 3 तरह की मिसाइल(missiles) का प्रयोग हो सकता हैं।

  1. METEOR MISSILES- हवा से हवा में ही प्रहार करने वाली मीटियोर (METEOR) मिसाइल
  2. SCALP MISSILES- हवा से जमीन में प्रहार करने वाली स्कैल्प (SCALP )मिसाइल
  3. HAMMER MISSILES- हैमर (HAMMER)मिसाइल.

राफेल लड़ाकू विमान ( Rafale Fighter Jets )स्टार्ट होते ही ऊंचाई तक पहुंचने में अन्य विमानों से काफी आगे है. अगर हम राफेल के रेट ऑफ क्लाइंब की बात करे तो वह 300 मीटर प्रति सेकंड है, जो पाकिस्तान-चीन के विमानों को बहुत आराम से मात देता है। इसका मतलब ये हुआ की एक मिनट के अंदर राफेल 18,000 मीटर की ऊंचाई तक पहुंच सकता है। यदि लद्दाख बॉर्डर के हिसाब से हम देखें तो राफेल लड़ाकू विमान ( Rafale Fighter Jets ) बिलकुल फिट बैठता है.

rafale 1 Bharat Headlines

Rafale एक ओमनी रोल लड़ाकू विमान है. यह पहाड़ों पर कम जगह में भी बहुत आराम से उतर सकता है. इसे समुद्र में चलते हुए युद्धपोत पर भी उतार सकते हैं.

Rafale Frighter jets एक बार फ्यूल भरने के बाद लगातार 10 घंटे की उड़ान भर सकते है। इसकी एक खासियत ये भी है की ये हवा में ही फ्यूल भर सकता है, जैसा इसने फ्रांस से भारत आते हुए किया भी था. Rafale पर लगी हुयी गन 2500 फायर एक मिनट में करने की क्षमता रखती है. Rafale का रडार सिस्टम बहुत स्ट्रांग है, ये 100 KM के दायरे के भीतर एकबार में एकसाथ 40 टारगेट को पहचान सकता है। भारत को मिले राफेल लड़ाकू विमान ( Rafale Fighter Jets ) करीब 24,500 KG तक का भार उठाकर ले जाने के लिए सक्षम हैं, इसके साथ ही 60 घंटे अतिरिक्त उड़ान की भी गारंटी है.

rafale 5 Bharat Headlines

Rafale में अभी जो भी मिसाइलें लगी हुयी हैं, वो लीबिया, सीरिया जैसी जगहों में प्रयोग हो चुकी हैं। इसके अलावा जल्द ही SPICE 2000 को भी इसमें जोड़ने की प्लानिंग है। भारतीय वायुसेना (Indian Airfroce) को अभी तक 5 राफेल लड़ाकू विमान मिल चुके है , वही प्लानिंग के अनुसार 2022 तक इनकी संख्या कुल 36 हो जाएगी। जिन्हे अलग-अलग एयरबेस पर तैनात किया जाएगा. राफेल लड़ाकू विमान ( Rafale Fighter Jets ) अभी के लिए अंबाला एयरबेस पर तैनात हैं, जो की पाकिस्तान और चीन की सीमा के समीप है. ऐसे में मौजूदा परिस्थितियों में ये भारत के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है.

यह भी पढ़े : Best Dedicated Hosting Plan 2020 : कौनसा होस्टिंग प्लान हैं सबसे अच्छा ? कैसे करे सही चुनाव ?

Rafale fighter jets : वायु सेना में शामिल राफेल लड़ाकू जेट, Rows गोल्डन एरो ’स्क्वाड्रन का हिस्सा होंगे|

Previous article

#RheaChakroborty : रिया और शोविक की जमानत कोर्ट ने करी ख़ारिज

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.